जीवन की सीख

जीवन की सीख
By: No Source Posted On: October 19, 2019 View: 365

जीवन की सीख

जीवन की सीख

सूरज सिखलाता है हमको बड़े सवेरे उठाना,

सिखलाती है हवा ख़ुशी की लय से चलते रहना |

 

चाँद हमें सिखलाता देना जग को नया उजाला,

तारे कहते, गीत सुनाओ झिलमिल मस्ती वाला |

पेड़ हमे सिखलाता, सारे दिन मेहनत में तपना

कोई चोट अगर दे तो भी फल से छोली भरना |

नदी बताती, कल-कल स्वर में बहाना मेरे भाई,

झरना कहता पल-पल झरते सबकी करो भलाई |

आसमान हँसकर कहता मुझसे सीखो तुम अपनापन,

धरती कहती है धीरज से फैला लो अपना मन |

खिल-खिल हँसते फुल बताते हर सुख में मुस्काना,

कोयल कहती सीखो मुझसे नए विश्व का गाना |

 अच्छी बातें अगर सभी कि सीखी हमने भाई,

तो धरती पर प्यार सरीखी महकेगी अमराई |

                                         प्रकाश मनु

Tags:
#जीवन की सीख शायरी जीवन एक कविता जीवन की सीख / नंदेश निर्मल जीवन की सीख हिन्दी कविता 

  Contact Us
 Poem Poetry for Kids

Uttar Pradesh (India}


Mail : tyaginiraj87@gmail.com
Business Hours : 9:30 - 5:30

  Follow Us
Site Map
Get Site Map
UA-151118390-1